''विकास की वर्तमान स्थिति में शहर गॉंव का रिश्ता परजीवी की बनता जा रहा है । ''-ड़ॉ आशीष कोठारी - Apni Maati: News Portal

Breaking

Home Top Ad

Post Top Ad

शनिवार, मार्च 23, 2013

''विकास की वर्तमान स्थिति में शहर गॉंव का रिश्ता परजीवी की बनता जा रहा है । ''-ड़ॉ आशीष कोठारी


उदयपुर 23, मार्च, 2013।

वर्तमान विकास और सकल घरेलु उत्पाद की मानसिकता पर्यावरण और प्रकृति को बाधा समझती है। शहरीकरण, खनन और विकास जो किया जा रहा है, यह विकास हिंसा के मार्ग पर आधारित है। जंगलो, झीलो और पर्यावरण के विनाश से वन्य जीवों एंव जीव जगत के साथ-साथ आदिवासी, गैर आदिवासी मछुआरे और जो गैर आदिवासी है, उनका बड़ा नुकसान हुआ है, उक्त विचार परती भूमि विकास समिति और डॉ मोहन सिंह मेहता मेमोरियल टस्ट के साझे में आयोजित पृथ्वी मंथन-वैश्विक भारत का निर्माण विषय पर प्रख्यात पर्यावरणविद् ग्रीन पीस इंड़िया के अध्यक्ष और कल्पवृक्ष, पुणे के संसथापक ड़ॉ आशीष कोठारी ने व्यक्त किये।

ड़ॉ कोठारी ने आगे कहा कि विकास की वर्तमान प्रक्रिया से गरीब और अमीर के मध्य खाई बढेगी ओर पर्यावरण का ह्रास होगा तथा गॉंवो एंव शहरो का जीवन प्रभावित होगा। विकास की वर्तमान स्थिति में शहर गॉंव का रिश्ता परजीवी की बनता जा रहा है । शहर गॉव से लकड़ी, पत्थर, रेत  सभी लेता है और बदले में कुड़ा करकट देता है। आशीष ने भारत के ही प्रदेशों के उदाहरण देते हुए कहा की गॉंवो में ही आजीविका के विकल्प तैयार करने होगें । ग्राम विकास के लिये विकेन्द्रिकृत सामुदायिक विकास ही एकमात्र गॉंधी मार्ग है।गॉंवों के विकास के लिये आर्थिक ढॉंचा तैयार करके ही आजीविका के लिये सुरक्षित वातावरण तैयार किया जा सकता है।

प्रश्नोत्तर करते हुए श्री आशीष कोठारी ने कहा की पचायती राज को बहुत बढावा दिया जा रहा है, किन्तु ग्राम सभा का सशक्तिकरण जब तक नही होगा तब तक गॉंव मजबूत नही होगा। शिक्षा प्रणाली पर अपने विचार देते हुए सउदाहरण कहा कि प्रकृति, संस्कृति और भाषा से दूर करती शिक्षा प्रणाली में भारी फेरबदल की जरूरत है। ड़ॉ कोठारी ने कहा कि वर्तमान विकास के मापदण्ड़ो को बदलने की जरूरत है। नागरीको के पानी, भोजन व सामाजिक रिश्ते कैसे है, ये विकास के द्योतक होने चाहिए । कोठारी ने सुचना के अधिकार, राष्टीय ग्रामीण रोजगार योजना जनजाती एंव वन अधिकार मान्यता के कदमो की सराहना की।

गॉंधीवादी किशोर सन्त ने पुस्तक की समीक्षा प्रस्तुत करते हुए भावी विकास का एक दस्तावेज बतलाया।  कार्यक्रम के प्रारम्भ में पृथ्वी मंथन-वैश्विक भारत का निर्माण विषय पुस्तक का लोकार्पण पुर्व वन संरक्षक एस के वर्मा तथा विद्याभवन के अध्यक्ष रियाज तहसीन ने किया । व्याख्यान में शहर के गणमान्य नागरीको एंव विभिन्न संस्थाओं ने भाग लिया। कार्यक्रम का संचालन, संयोजन एंव स्वागत टस्ट सचिव नन्द किशोर शर्मा ने किया।

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

पेज