आईएचसी भारतीय भाषा महोत्सव - Apni Maati: News Portal

Breaking

Home Top Ad

Post Top Ad

सोमवार, नवंबर 21, 2011

आईएचसी भारतीय भाषा महोत्सव


 आईएचसी भारतीय भाषा महोत्सव
सह-आयोजक: दिल्ली प्रेस, प्रतिलिपि बुक्स
इंडिया हैबिटैट सेंटर, लोधी रोड, नई दिल्ली 


Friday, December 16, 2011 at 4:30pm until Sunday, December 18, 2011 at 7:00pm

'समन्वय' हमारे सांस्कृतिक परिवेश में बोली जाने वाली विभिन्न भाषाओं में अभिव्यक्त मानवीय विचारों और विविध सांस्कृतिक सन्दर्भों को एक मंच पर लाने वाला आयोजन है.
 ___________________________________________________________

पहला दिन | Day 1st

उदघाटन सत्र | Inaugural session:

* संवाद : क्या कोई भारतीय साहित्य है? | Is there an Indian Literature?
* काव्य पाठ
* गायन : नागार्जुन की हिंदी और मैथिली कविताओं का.
__________________________

दूसरा दिन | Day 2nd

पहला सत्र : असमी | Session 1: ASSAMESE

स्त्री लेखन : नई चुनौतियां, नई संभावनाएं | New Challenges for Women Writers
_________________________

दूसरा सत्र : पंजाबी | Session 2: PUNJABI

दलित प्रेम कविता | Dalit Love Poetry
____________________________

तीसरा सत्र : मलयालम | Session 3: MALAYALAM

हाशिए की आत्मकथाएँ | Autobiographies from the Margins
__________________________

चौथा सत्र : उर्दू | Session 4: URDU

मुशायरा: माज़ी और मकाम | The Death of Mushayara
_____________________________

तीसरा दिन | Day 3rd

पहला सत्र : तमिल | Session 1: TAMIL

स्त्री लेखन में देह | Women Writing the Body
____________________________

दूसरा सत्र : हिंदी | Session 2: HINDI

नई सदी में नए पाठक की तलाश | Searching Readers for 21st Century
_____________________________

तीसरा सत्र : बाँग्ला | Session 3: BENGALI

कविता और लोकप्रियता | Poetry and the Popular
_____________________________

चौथा सत्र : अंग्रेजी | Session 4: ENGLISH

गल्प से परे : भारती अंग्रेजी लेखन की दुनिया | Indian English Writing: Beyond Fiction
_____________________________

आख़री सत्र | Closing Session

जायजा | Reflections

2 टिप्‍पणियां:

सत्यानन्द निरुपम ने कहा…

bahut bahut shukriya! kripaya karyakram mein aayein bhi.

RAJESH BHANDARI ने कहा…

श्री मान जी ,
मालवा छेत्र उज्जैन से लगाकर आधे राजस्थान तक फेला हुवा हे जिसकी जनसंक्या करीब २ करोड हे |
जिस भाषा को बोलने वाले २ करोड लोग हे और जो दुनिया की जनसंक्या का ०.०१२ % हे उनको आप अपने कार्य क्रम में कोई प्रतिनिधित्व नहीं दे रहे हे |

यदि संभव हो तो में मालवी भाषा पर बोलने के लिए तैयार हू |

राजेश भंडारी 'बाबु"
१०४ महावीर नगर इंदौर
http://www.facebook.com/groups/109253442476027/
www.youtube.com/malvikavi

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

पेज