प्रेस विज्ञप्ति:सकारात्मक ऊर्जा का श्रोत है शास्त्रीय संगीत-सोमबाला - Apni Maati: News Portal

Breaking

Home Top Ad

Post Top Ad

शुक्रवार, सितंबर 11, 2015

प्रेस विज्ञप्ति:सकारात्मक ऊर्जा का श्रोत है शास्त्रीय संगीत-सोमबाला

प्रेस विज्ञप्ति
सकारात्मक ऊर्जा का श्रोत है शास्त्रीय संगीत-सोमबाला

चित्तौड़गढ़ 10 सितम्बर 2015

आजकल की जटिल जीवन शैली में संगीत हमें सुकून के पल देता है।खासकर शास्त्रीय संगीत की तमाम विधाओं से सकारात्मक ऊर्जा मिलती है जो हमें हमारी रोजमर्रा के कार्यों में आगे बढ़ाती है।कार्य शैली में संतुलन और एक लय पैदा करना अच्छे संगीत की शागिर्दी से ही संभव है।थकानभरे दिन और उबाऊ कामों के बीच संगीत सभाओं के अनुभव हमारे में स्फूर्ति जगाते हैं।विश्वभर में भारत की पहचान हमारे शास्त्रीय संगीत की वजह से ही है। सभी रागों और थाटों की तस्वीर बताते हुए उसमें किसी कलाकार को जब सृजन का पूरा मौक़ा मिलता है तो कुछ और बात होती है।हमारी शास्त्रीय संगीत में नियमों में बंधे रहते हुए भी मौलिकता की पूरी गुंजाईश रहती है। विद्यालयों में संगीत को विषय के रूप में पढ़ाया जाना चाहिए ताकि बच्चे हमारी विरासत का मोल समझ सकें।

यह विचार ध्रुपद गायिका सोमाबला कुमार ने स्पिक मैके विरासत आयोजन में व्यक्त किए।सुबह दस बजे गांधी नगर स्थित विद्या निकेतन माध्यमिक विद्यालय में हुए गायन के बारे में वहाँ के प्रधानाध्यापक महेंद्र सिंह सिसोदिया ने कहा कि सोमाबला कुमार ने ध्रुपद गायकी की बारीकियां और इतिहास बताते हुए राग जौनपुरी और आसावरी तोड़ी पेश की।छात्र निर्मल धाकड़ और अंशुल सुखवाल ने उपस्थित श्रोताओं को कलाकारों के बारे में बताया।स्पिक मैके आन्दोलन परिचय उपाचार्य यशवंत सिंह नेगी ने दिया।संचालन स्पिक मैके सहसचिव पूर्णिमा मेहता ने किया।इस मौके परअध्यापिका श्रीमती अरविन्द कौर,विद्यालय प्रबंधन समिति के सचिव ओमप्रकाश सुखवाल, मंत्री सत्यवीर शर्मा और अतिरिक्त जिला कलेक्टर सुरेश चन्द्र ने कलाकारों का अभिनन्दन किया

ध्रुपद गायकी की दूसरी प्रस्तुति मण्डपिया स्थित राजकीय महाविद्यालय में सफलतापूर्वक हुयी जिसमें देहाती इलाके के युवाओं ने पहली बार हमारी प्राचीन गायन परम्परा का अनुभव लिया।कॉलेज प्राचार्य जेपी जोशी ने आयोजन के बाद बताया कि सांवलिया मंदिर मंडल के सहयोग से विद्यार्थियों को हमारी संस्कृति से रू-ब-रू होने का अवसर मिला है।इस मौके पर कलाकारों का छात्र संघ अध्यक्ष पंकज गर्ग और महासचिव मीनाक्षी शक्तावत ने ने स्वागत किया।मंच संचालन हिंदी प्राध्यापक डॉ. राजेश चौधरी ने किया।यहाँ विद्यार्थियों ने राग मुल्तानी सुना। गुरुवार को हुए दोनों कार्यक्रमों के सूत्रधार सहसचिव शाहबाज पठान,उपाध्यक्ष डॉ.आर.के.दशोरा और सह सचिव पूर्णिमा मेहता थेइकाई अध्यक्ष डॉ.खुशवंत सिंह कंग के कहा कि अब आगामी आयोजन सत्रह सितम्बर को होगा जिसमें विख्यात भरतनाट्यम नृत्यांगना रमा वैद्यानाथान अपनी प्रस्तुति देगी



सांवर जाट,स्पिक मैके चित्तौड़ सचिव

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

पेज