प्रेस विज्ञप्ति:अभिव्यक्ति का बेहतर माध्यम है चित्रकारी-राणावत - Apni Maati: News Portal

Breaking

Home Top Ad

Post Top Ad

बुधवार, दिसंबर 31, 2014

प्रेस विज्ञप्ति:अभिव्यक्ति का बेहतर माध्यम है चित्रकारी-राणावत

प्रेस विज्ञप्ति  
अभिव्यक्ति का बेहतर माध्यम है चित्रकारी-राणावत
घनश्याम सिंह राणावत ने किया आर्ट केम्प का उदघाटन

चित्तौड़गढ़ 30  दिसम्बर 2014 

चित्तौड़गढ़ आर्ट सोसायटी और पुरातत्व एवं संग्रहालय विभाग की संयुक्त प्रस्तुति आर्ट फेस्टिवल में तीस दिसंबर मंगलवार का दिन आर्ट केम्प के उदघाटन के नाम रहा। सोसायटी के साथी संयम पुरी और पूरण रंगास्वामी ने बताया कि उदघाटन सत्र में मुख्य आतिथ्य श्रमिक नेता और चित्तौड़गढ़ आर्ट सोसायटी के संरक्षक घनश्याम सिंह राणावत ने निभाया। प्रसिद्द चित्रकार अतु पाडिया और आयोजन संयोजक मुकेश शर्मा, दिलीप जोशी ने उनका स्वागत किया। राणावत ने उदघाटन के मौके पर कहा कि इस तरह का आयोजन चित्तौड़गढ़ जैसे शहर में होना अपने आप भी अरसे से अटकी हुयी एक पहल है।हमारे क्षेत्र की तमाम सामाजिक-सांस्कृतिक और प्रगतिशील विचारों वाली संस्थाओं का प्रयास रहना चाहिए कि ऐसे उत्सव गति पकड़े। इस कठिन दौर में जहां तमाम कलाओं में प्रदुषण फ़ैल रहा है अच्छी बात यह है कि अभी तक चित्रकारी के इलाके में यह प्रभाव नहीं आया है। राणावत ने सभी युवा चितेरों से परिचय लेते हुए उनका माल्यार्पण कर एतिहासिक दुर्ग चित्तौड़ में स्वागत किया। 

उदघाटन के मौके पर संग्रहालय अधीक्षक हिमांशु सिंह, अपनी माटी संस्थान की सचिव डालर सोनी चित्रकार उषा  सिसोदिया, लक्ष्मी नारायण वर्मा, सैनिक स्कूल के अध्यापक मनीष सैनी और विजय कुमार बैरवा भी उपस्थित थे। आर्ट केम्प के पहले दिन तीन राज्यों के दस कलाकारों ने अपनी प्रस्तुति दी। सभी ने एक स्वर में किले की एतिहासिकता को सराहा और अभिभूत भी हुए। इधर पांच दिवसीय कार्यशाला में उदयपुर की पेंटर और शोधार्थी दीपिका माली ने बच्चों को ड्राइंग की बारीकियों से परिचय कराते हुए अपने निर्देशन में एक-एक चित्र भी बनवाए। कार्यशाला में आख़िरी दिन उदयपुर के सुनील निमावत ग्राफिक्स के बारे में बच्चों को जानकारे देंगे। इस तरह कुम्भा महल परिसर में दिनभर चित्रकला से जुड़े लोगों और आए हुए पर्यटकों का ध्यान आर्ट केम्प ने खींचा

चित्तौड़गढ़ आर्ट सोसायटी के साथी जीएनएस चौहान ने बताया सभी अतिथि कलाकार सैनिक स्कूल अतिथि गृह में एक दिन के विश्राम के बाद इकत्तीस दिसंबर को भी सुबह ग्यारह से दोपहर दो बजे तक कुम्भा महल परिसर में आर्ट केम्प में हिस्सा लेंगे। बाँसवाड़ा और उदयपुर के कुछ कलाकार तीस दिसंबर की शाम चित्तौड़ पहुंचे हैं वे भी आर्ट केम्प में शामिल होंगे

मुकेश शर्मा,आर्ट फेस्टिवल संयोजक

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

पेज