सुनील गज्जाणी को मानद उपाधि 'राष्ट्र भाषा गौरव' - Apni Maati: News Portal

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

शुक्रवार, दिसंबर 20, 2013

सुनील गज्जाणी को मानद उपाधि 'राष्ट्र भाषा गौरव'

बीकानेर
बीकानेर के युवा कवि, नाटककार, लघु कथाकार  ,बाल नाटक कार सुनील गज्जाणी को अखिल भारतीय हिंदी सेवी संस्थान इलाहबाद कि और से मानद उपाधि '' राष्ट्र भाषा गौरव '' से सम्मानित किया गया ! इलाहाबाद में आयोजित इस एक दिवसीय कार्यकर्म में  देश विदेश से पधारे अनेक साहित्यकारो ने अपनी प्रतिभागिता निभाई ! कार्यकर्म  निराला सभागार, इलाहाबाद विश्व विद्यालय में आयोजित हुआ जो राष्ट्रीय संगोष्ठी के रूप में 10 बजे प्रातः शुभारभ हुआ जो '' साहित्य के महत्वपूर्ण विमर्श '' नामक था, विषय प्रवर्तन डॉ. ऋचा शर्मा ने किया था।  अध्यक्षता डॉ. राम किशोरे शर्मा ने की तथा देश विदेश से पधारे साहित्यकारो ने इस विषय पर अपने अपने विचार रखे !

दूसरे सत्र में मानद उपाधि अलंकरण समारोह हुआ जिसमें देश विदेश के कई साहित्यकारों को ये मानद उपाधि '' राष्ट्र भाषा गौरव '' से सम्मानित किया गया , सम्मान उत्तर प्रदेश के पूर्व शिक्षा मंत्री नरेन् सिंह गौर द्वारा प्रदान किया गया.तीसरा सत्र कवि सम्मेलन से हुआ जिसका संचालन डॉ. मिथिलेश अवस्थी ( नागपुर ) ने , अध्यक्षता डॉ. राज कुमार सुमित्र ( जबलपुर ) मुख्य अतिथि प्रो हरिराज सिंह ( पूर्व कुल पति इलाहबाद विश्वविद्यालय , आचार्य भगवत दुबे , डॉ.गार्गी शरण मिश्र '' मराल '' ने किया, अंतरजाल पर भी अपनी लेखनी द्वारा निरंतर सक्रिय रहने वाले गज्जाणी देश विदेश के प्रमुख पत्रिकाओं में छपते भी रहती है तथा कविताओं और लघु कथाओं का भी अनुवाद गुजराती और सिंधी में हो चुका है !गौरतलब है कि गज्जाणी साहित्य संस्थान '' बुनियाद साहित्य अवं कला सस्थान '' के अध्यक्ष है !Print Friendly and PDF

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

पेज