भीतर के बदलाव के लिए शास्त्रीय गायन सबसे आसान तरीका है-डॉ मीता पंडित - Apni Maati: News Portal

Breaking

Home Top Ad

Post Top Ad

शुक्रवार, सितंबर 20, 2013

भीतर के बदलाव के लिए शास्त्रीय गायन सबसे आसान तरीका है-डॉ मीता पंडित

प्रेस विज्ञप्ति
भीतर के बदलावके लिएशास्त्रीय गायन  सबसे आसानतरीका है-डॉ मीतापंडित 

चित्तौड़गढ़ 20 सितम्बर 2013

स्पिक मैके चित्तौड़गढ़की विरासतप्रस्तुतियों में शुक्रवार का दिनदेश कीप्रतिबद्ध शास्त्रीया गायिका डॉ मीतापंडित केगायन केनाम रहा।पहला कार्यक्रमसुबह साढ़ेआठ बजेराजकीय पुरुषार्थीमाध्यमिक विद्यालय,पाडनपोल मेंहुआ।विद्यार्थियों से प्रश्नोत्तरीके माध्यमसे शुरूहुए कार्यक्रममें वाध्ययंत्रों, राग-रागिनियों कीजानकारी भीदी गयी।मीता पंडितने आरंभिकस्तुति औरमीरा भजनसे श्रोताओंको अपनीग्वालियर घरानेकी गायिकासे परिचितकरवाया। कलाकारोंका स्वागत, अभिनन्दन औरसंचालन प्रधानाचार्यनन्द किशोरनिर्झर,स्पिकमैके उपाध्याक्षडॉ राजेन्द्रसिंघवी औरवरिष्ठ सदस्यनटवर त्रिपाठीने किया।
  
दूसरा कार्यक्रम बोजुन्दास्थित विजनस्कूल ऑफमैनेजमेन्ट में हुआ।मीता पंडित नेयहाँ रागदेशकार मेंनिबद्ध गंगामैंया कीस्तुति , तरानाऔर आखिरमें प्रगतिशीलकवि कबीरका पदनैहरवा हमकानहीं भावेप्रस्तुत किया।लगातारपचास मिनट  की इस गायनसंगत कोप्रबंधन केविद्यार्थियों ने खूब सराहा।संगतकार केरूप सारंगीनवाज़ पंडितभारत भूषणगोस्वामी औरतबला वादकअख्तर हसनने भीअपनी जुगलबंदीसे खूबध्यान खींचा।

संस्था निदेशक डॉ. साधना मण्डलोईने बतायाकि शास्त्रीयसंगीतज्ञ डॉ. मीता पण्डितने फ्रांस, जर्मनी, लंदन, स्वीजरलैण्ड, नार्वे, रोम, अमेरिका मेंअपनी प्रस्तुतियाँदी है।भारत सरकारने इन्हेंअनेक अवार्डजैसे गोल्डनवाइस ऑफइण्डिया, युवाओजस्वीनी अवार्ड, यंग एचीवरऑफ इयर अवार्ड संगीतनाटक एकेडमीके उत्कर्षअवार्ड सहितउस्ताद बिस्मिल्लाहखां युवापुरूस्कार से सम्मानित किया जाचुका है।दीप प्रज्जवलनस्पिक मैकेअध्यक्ष डॉ. .एल.जैन, संस्थाके सचिवराजेन्द्र पारीक ने किया। कार्यक्रमप्रो. राहुलजैन केनिर्देशन मेंआयोजित हुआ संचालनबी.बी.एम. छात्रानेन्सी सलुजाने किया।इस अवसरसलाहकार  मुन्ना लाल डाकोत,समन्वयक  जे पी भटनागर,माणिक औरभावना शर्मासहित अन्यस्टॉफ गणउपस्थित थे।प्रो. सुरभिलढढा नेधन्यवाद ज्ञापितकिया।




अध्यक्ष स्पिक मैके

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

पेज