कुमार अजय को राजस्थानी भाषा का युवा पुरस्कार - Apni Maati: News Portal

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

शनिवार, अगस्त 24, 2013

कुमार अजय को राजस्थानी भाषा का युवा पुरस्कार

चूरू, 23 अगस्त।  

जिले के युवा साहित्यकार कुमार अजय को वर्ष 2013 के लिए भारत सरकार की साहित्य अकादेमी नई दिल्ली की ओर से राजस्थानी भाषा का युवा पुरस्कार दिए जाने की घोषणा की गई है। अजय को यह पुरस्कार उनकी राजस्थानी कविता पुस्तक ‘संजीवणी’ के लिए दिया जाएगा।अकादेमी सचिव के एस राव की ओर से जारी विज्ञप्ति के अनुसार  अकादेमी अध्यक्ष विश्वनाथ तिवारी की अध्यक्षता में शुक्रवार को चेन्नई में आयोजित बैठक में बाद अकादेमी की ओर से मान्यता प्राप्त देश की विभिन्न भाषाओं के लिए युवा पुरस्कार की घोषणा शुक्रवार को की गई। किसी भी भाषा में 35 वर्ष तक की आयु के युवा को दिए जाने वाले इस पुरस्कार के तहत 50 हजार रुपए नकद तथा ताम्रफलक से सम्मानित किया जाता है। युवा पुरस्कार की घोषणा पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कुमार अजय ने कहा कि राजस्थानी दुनिया की सबसे प्राचीन व समृद्धतम भाषाओं में से एक है। ऐसी भाषा के लिए सम्मानित होने पर स्वयं को गौरवान्वित महसूस कर रहा हूं।

उल्लेखनीय है कि गांव घांघू (चूरू) में 24 जुलाई 1982 को जन्मे राजस्थानी व हिंदी के युवा हस्ताक्षर कुमार अजय साहित्य की विभिन्न कविता, कहानी, गजल, लघुकथा सहित विभिन्न विधाओं में लिखते हैं। राजस्थानी कविता संग्रह ‘संजीवणी’ के अलावा राजस्थानी कहानी संग्रह ‘किणी रै कीं नीं हुयौ’ उनकी प्रकाशित पुस्तकें हैं तथा हिंदी कविता पुस्तक ‘कहना ही है तो कहो’ प्रकाशनाधीन है। बचपन से ही विभिन्न पत्रा-पत्रिकाओं में छपते रहे कुमार अजय राजस्थानी की पहली अनुवाद पत्रिका ‘अनुसिरजण’ के सह-संपादक हैं तथा प्रयास संस्थान की ओर से शीघ्र प्रकाश्य त्रौमासिक पत्रिका ‘लीलटांस’ का संपादन कर रहे हैं। वर्तमान में सहायक जनसंपर्क अधिकारी पद पर कार्यरत कुमार अजय इससे पूर्व विभिन्न अखबारों के लिए पत्राकारिता कर चुके हैं और इन्हें वर्ष 2006 में राज्य स्तरीय ग्राम गदर पुरस्कार तथा वर्ष 2007 में कुलिश स्मृतिः कलम से स्वराज पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है। राजस्थानी कविता संग्रह ‘संजीवणी’ पर इससे पहले श्रीमती बसंती देवी धानुका युवा साहित्यकार पुरस्कार भी मिल चुका है।

साहित्य अकादेमी में राजस्थानी भाषा परामर्श समिति के संयोजक अर्जुनदेव चारण ने बताया कि इससे पूर्व वर्ष 2011 में चूरू के दुलाराम सहारण तथा 2012 मे कोटा के ओम नागर को राजस्थानी भाषा के लिए साहित्य अकादेमी की ओर से युवा पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है। शुक्रवार को साहित्य अकादेमी की ओर से हिंदी में अर्चना भैसारे, पंजाबी में हरप्रीत कौर, संस्कृत में राजकुमार मिश्र, उर्दू में मोइद रसीदी, बांग्ला में शुभ्र बंदोपाध्याय, अंग्रेजी में जैनिस पेरियाट, गुजराती में अशोक चावड़ा सहित देश की 23 भाषाओं के साहित्यकारों को युवा पुरस्कार की घोषणा की गई।

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

पेज