अपनी माटी' मई-2013 अंक प्रकाशित - Apni Maati: News Portal

Breaking

Home Top Ad

Post Top Ad

मंगलवार, अप्रैल 30, 2013

अपनी माटी' मई-2013 अंक प्रकाशित


  1. सम्पादकीय:यहाँ अब मन्ना नहीं रहते
  2. झरोखा:भवानी प्रसाद मिश्र
  3. टिप्पणी:इतिहास लेखन को चुनौती देता ‘एकलव्य उवाच’ : पुखराज जाँगिड़
  4. आलेख: गुलज़ार-एक शर्मीला परिन्दा / सुरेन्द्र डी. सोनी
  5. आलेख:जयशंकर प्रसाद के समग्र साहित्य / राजीव आनंद
  6. आलेख:'धूमिल की कविताओं की शक्ति' / शैलेन्द्र चौहान
  7. आलेख:हरिशंकर परसाई के सन्दर्भ में 'जीवन बड़ा डिप्लोमेटिक किस्म का हो गया है' / डॉ. राजेश चौधरी
  8. आलेख: कुँअर रवींद्र :कला में मनुष्यता की खोज / पुखराज जाँगिड़
  9. पुस्तक समीक्षा: ‘मनुजता अमर सत्य’-डॉ. महेन्द्र भटनागर /डॉ.राजेन्द्र कुमार सिंघवी
  10. पुस्तक समीक्षा:कोई तो रंग है: विनोद पदरज / डॉ रेणु व्यास
  11. कविता: डॉ सत्यनारायण व्यास
  12. कविता:विनोद पदरज
  13. फीचर:जसनाथी सम्प्रदाय का अग्नि नृत्य / नटवर त्रिपाठी
  14. 'माटी के मीत' आयोजन रिपोर्ट:''कविता असंभव में संभव का दर्शन कराती है। ''-अम्बिकादत्त
  15. अपनी माटी के पोस्टर
जिन साथियों ने हमें अपनी रचनाओं से सहयोग दिया उनका आभार और जिनकी रचनाएं इस अंक में शामिल नहीं हो सकी उनसे मुआफी सहित अंक हाज़िर है।-सम्पादक 

                        E-mail ,Website Facebook ,Subscribe , Twitter











    

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

पेज