स्पिक मैके हेरिटेज ने मन मोह लिया - Apni Maati: News Portal

Breaking

Home Top Ad

Post Top Ad

शनिवार, अक्तूबर 06, 2012

स्पिक मैके हेरिटेज ने मन मोह लिया

प्रेस विज्ञप्ति

स्पिक मैके हेरिटेज ने मन मोह लिया 

चित्तौड़गढ़।

स्पिक मैके , भारतीय रेलवे और आर्कियोलोजी सर्वेक्षण विभाग के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित हेरिटेज ट्रेन के एक हज़ार पचास प्रतिभागी साढ़े  ग्यारह बजे दुर्ग स्थित कुम्भा महल पहुंचे। दल के निर्देशक हर्ष नारायण सहित सभी का कुमकुम तिलक और मालाओं से भावभीना स्वागत किया गया। स्थानीय शाखा के अध्यक्ष डॉ ए एल जैन और संभागीय समन्वयक जे पी भटनागर के अनुसार यहाँ सेन्ट्रल अकादमी, केलीबर अकादमी, न्यू  हेप्पी स्कूल और स्काउट-गाईड के दल द्वारा स्वयंसेवा की गयी।

दोपहर  बारह बजे शुरू हुए स्वागत समारोह में जिला कलक्टर रवि जैन, जिंक लोकेशन एच आर हेड संजय शर्मा, गाईड शांति लाल सुखवाल, आयोजन समन्वयक हर्ष नारायण ने अपने विचार व्यक्त करते हुए चित्तौड़ के इतिहास को सराहा।  कलेक्टर रवि जैन ने ख़ास तौर पर अपने उदबोधन में सभी प्रतिभागियों का स्वागत किया और उन्हें इस धरती के नामचीन किरदारों से बहुत कुछ सीखने की सलाह दी। आर्कियोलोजी विभाग के अधीक्षक एच के फानन, फोरमैन पी सी शर्मा, जी एन एस चौहान, देवी लाल राठौड़, फ़ादर अनिल जेकब, कविता आरोड़ा, नटवर त्रिपाठी, कृष्णा सिन्हा, नंदिनी सोनी आदि ने सभी का स्वागत किया। इस अवसर पर अतिथियों सहित दल के समन्वयक अंजना गैरा, अनिल रॉय, तनवीर उसमानी को फड़ चित्रकार सत्यनारायण जोशी ने अपनी चित्रकृतियाँ भेंट की।

स्वागत समारोह में जिंक के कर्मचारियों द्वारा देशभर से आये सभी प्रतिभागियों को अल्पाहार वितरण किया गया। समारोह के बाद हेरिटेज वॉक शुरू होगा जिसमें सभी बच्चे पचास-पचास के दल में आगे  बढ़ते हुए  संग्रहालय, जैन सातबीस देवरी, मीरा मंदिर, विजय स्तम्भ परिसर में भ्रमण किया। विद्यार्थियों ने इस अवसर पर श्रमदान भी किया। सभी किले की आभा से अभिभूत हुए। दलों को इतिहास की जानकारी देने वालों में पूर्व जनसंपर्क निदेशक नटवर त्रिपाठी अध्यापक जितेन्द्र कुमार सुथार, प्रवीण कुमार जोशी, प्रदीप दीक्षित आदि अपनी सेवाएं दी।

इस आयोजन के सूत्रधार हरीश लड्ढा ने आभार व्यक्त किया। इसी इवसर पर स्पिक मैके कोषाध्यक्ष रजनीश साहू के निर्देशन में सदस्यता अभियान भी शुरू हुआ जिसमें बहुतों ने आन्दोलन की सदस्यता ली यात्रा के सभी साथियों ने किले पर पर्यटन का पूरा आनंद लिया।

डॉ ए  एल जैन

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

पेज