कमर मेवाड़ी को मिलेगा इस वर्ष का डॉ. घासीराम वर्मा साहित्य पुरस्कार - Apni Maati: News Portal

Breaking

Home Top Ad

Post Top Ad

मंगलवार, अगस्त 07, 2012

कमर मेवाड़ी को मिलेगा इस वर्ष का डॉ. घासीराम वर्मा साहित्य पुरस्कार


प्रयास संस्थान द्वारा स्थापित डॉ. घासीराम वर्मा साहित्य  पुरस्कार का पांचवां सोपान

चूरू। 
राजस्थान के हिंदी लेखन को प्रोत्साहित, सम्मानित करने के उद्देश्य से प्रयास संस्थान, चूरू द्वारा दिए जाने वाले डॉ. घासीराम वर्मा साहित्य पुरस्कार वर्ष 2012 की घोषणा कर दी गई है।प्रयास संस्थान के अध्यक्ष दुलाराम सहारण ने बताया कि इस वर्ष यह पुरस्कार हिंदी के जाने-माने साहित्यकार-संपादक कांकरोली के कमर मेवाड़ी को हिंदी कथाकृति ‘जिजीविषा और अन्य कहानियां’ के लिए दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि वर्ष 2008 से प्रारंभ डॉ. घासीराम वर्मा साहित्य पुरस्कार का यह पांचवां सोपान है। उल्लेखनीय है कि इससे पहले वर्ष 2008 में जोधपुर के डॉ. सत्यनारायण को कहानी संग्रह ‘सितम्बर में रात’, वर्ष 2009 में जोधपुर की ही मनीषा कुलश्रेष्ठ को कहानी संग्रह ‘कठपुतलियां’ वर्ष 2010 में जयपुर के कवि हेमंत शेष को काव्य संग्रह ‘जगह जैसी जगह’ तथा वर्ष 2011 में जयपुर के ही कथाकार रत्नकुमार सांभरिया को कहानी संग्रह ‘खेत तथा अन्य कहानियां’ के लिए उक्त पुरस्कार प्रदान किया जा चुका है। इसी शृंखला के तहत वर्ष 2012 में कमर मेवाड़ी की कथा पुस्तक ‘जिजीविषा और अन्य कहानियां’ को पुरस्कृत करना पांचवा पड़ाव होगा।

संस्थान सचिव कमल शर्मा ने बताया कि आगामी सितम्बर माह में चूरू में आयोजित एक समारोह में यह पुरस्कार प्रदान किया जाएगा। पुरस्कार स्वरूप 5100 रूपये नगद, शॉल, श्रीफल तथा प्रतीक चिह्न दिया जाएगा। 

हिंदी में स्थापित नाम है कमर मेवाड़ी का

राजस्थान के कांकरोली (राजसमंद) में 11 जुलाई 1939 में जन्मे कमर मेवाड़ी हिंदी साहित्य में काफी दखल रखते हैं। सन 1959 के साप्ताहिक हिंदुस्तान से शुरू हुई कमर मेवाड़ी की साहित्यिक यात्रा आज अलग मुकाम के साथ खड़ी है। कमर मेवाड़ी के कहानी संग्रह ‘रोशनी की तलाश’, ‘लाशों का जंगल’, ‘उसका सपना’, ऊंचे कद का आदमी’, एवं कविता संग्रह ‘चांद के दाग’, ‘आखिर कब तक’, ‘बहस अभी जारी है’, ‘फैसला होने तक’ तथा उपन्यास ‘वह एक’ हिंदी साहित्य में खासे चर्चित रहे हैं। दूरदर्शन की ओर से कहानी ‘ऊंचे कद का आदमी’ पर टेलीफिल्म का निर्माण किया गया है। कमर हिंदी की साहित्यिक त्रैमासिक ‘संबोधन’ का 1966 से प्रकाशन-संपादन कर रहे हैं। मेवाड़ी इससे पूर्व राजस्थान साहित्य अकादमी के रांगेय राघव पुरस्कार सहित अनेक पुरस्कारों से समादृत हो चुके हैं। उनकी रचनाओं का अंग्रेजी, उर्दू , ओडिया, राजस्थानी, मराठी व पंजाबी में अनुवाद हो चुका है। 




दुलाराम सहारण
राज्य के चूरू  जिले में प्रमुख रूप से सक्रीय सामाजिक संस्थान प्रयास के अध्यक्ष है और एक प्रखर संस्कृतिकर्मी के रूप में जाने जाते हैं.वे पेशे से वकील हैं.
चुरू,राजस्थान

9414327734   

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

पेज