बच्चों ने जाना संतूर का इतिहास - Apni Maati: News Portal

Breaking

Home Top Ad

Post Top Ad

सोमवार, अगस्त 27, 2012

बच्चों ने जाना संतूर का इतिहास

प्रेस विज्ञप्ति   
बच्चों ने जानासंतूर काइतिहास

शास्त्रीय वाध्य यन्त्रसंतूर कीअपनी दोप्रस्तुतियों के माध्यम से देशकी जानीमानी कलागुरुडॉ वर्षाअग्रवाल सोमवारको विद्यार्थियोंसे मुखातिबहुयी। रागरागिनीसे बिलकुलअनजान विद्यार्थियोंने बहुतध्यान पूर्वकसंतूर केइतिहास कोजानने केसाथ हीइसे बजानेकी छोटीछोटीबातों कोकरीब सेजाना।स्पिक मैके ,बेंकऑफ़ बड़ोदाऔर जुबिलंटभरतीया फाउन्डेशनद्वारा इनदिनों चित्तौड़जिले मेंआयोजित विरासतके तहतगंगरार क्षेत्रमें पहलासंतूर वादनउप्रावि  डेट में हुआ। आयोजन मेंतहसील उपखंडअधिकारी हेमेन्द्रनागर नेभी शिरकतकी। कार्यक्रमसंयोजक बसन्तीलाल पंचोलीके अनुसारविद्यालय मेंडॉ. अग्रवालका भारीस्वागत कियागया।  दीप प्रज्जवलन और स्वागत प्रधानाध्यापकदिनेश चन्द्रचतुर्वेदी और डॉ. ज्योति सुरानाविद्यालय प्रबंधनसमिति अध्यक्षशंकर सिंहचौहान नेकिया।

दुसरे आयोजन मेंउप्रावि बालिकास्कूल पुठोलीमें भीछात्राओं नेसंतूर और  तबला  जुगलबंदीका आनंदलिया लिया।  वर्कशॉपसमन्वयक जे.पी.भटनागरने बतायाकि राग,आलाप,सरगम,ठाट आदिके बारेमें मोटीजानकारी हासिलकरने मेंइन प्रस्तुतियोंने बहुतसहयोग दियाहै। प्रसिद्दतबला वादकपंडित किशनमहाराज केशिष्य पंडितललित महंतने भीबालिकाओं कोसंगत केवाध्य तबलेके बारेमें बहुतबारीक जानकारियाँदी।  यहाँ कलाकारों का स्वागत प्राधानाध्यापिकाअनुराधा नराणियाऔर अनिताशर्मा नेकिया।  भटनागर के अनुसार मंगलवार कोसंतूर वादनकी दोप्रस्तुतियां होगी जिसमें सुबह नौबजे उप्रावीमीरा नगरऔर साढ़ेग्यारह बजेउप्रावी पुलिसलाइन शामिलहैं।



डॉ.ए.एल.जैन
अध्यक्ष 

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

पेज