Writer Dr. Mahendra Bhatnagar - Apni Maati: News Portal

Breaking

Home Top Ad

Post Top Ad

सोमवार, अप्रैल 30, 2012

Writer Dr. Mahendra Bhatnagar

पता-
110,बलवंत नगर,
गांधी रोड़,ग्वालियर,
मध्य प्रदेश- 474 002
फोन-0751- 4092908
 डॉ. महेंद्र भटनागर का परिचय 
मूल रूप से ग्वालियर,मध्य प्रदेश के हैं.कभी पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपयी के सहपाठी भी रहे.फिलहाल सेवानिवृत प्रोफ़ेसर हैं. लिखने, पढ़ने, छपने में गहरी रूचि है. खुद को कविता रचना के सबसे करीब और मुफीद पाते हैं.उम्र लगभग छियासी पार है.कई किताबें प्रकाशित हुई और अनुदित भी.


द्वि-भाषिक कविहिन्दी औरअंग्रेज़ी।

सन् 1941 के लगभगअंत सेकाव्य-रचनाआरम्भ। तबकवि (पन्द्रहवर्षीय) 'विक्टोरियाकॉलेज, ग्वालियर' में इंटरमीडिएट(प्रथम वर्ष) का छात्रथा। सम्भवतःप्रथम कविता'सुख-दुख' है; जोवार्षिक पत्रिका'विक्टोरिया कॉलेज मेगज़ीन' के किसीअंक मेंछपी थी।वस्तुतः प्रथमप्रकाशित कविता'हुंकार' है; जो 'विशालभारत' (कलकत्ता) के मार्च1944 के अंकमें प्रकाशितहुई। 
  • लगभग छह वर्षकी काव्य-रचना कापरिप्रेक्ष्य स्वतंत्रता-पूर्व भारत; शेषस्वातंत्र्योत्तर। 
  • हिन्दी की तत्कालीनतीनों काव्य-धाराओं सेसम्पृक्तराष्ट्रीय काव्य-धारा, उत्तरछायावादी गीति-काव्य, प्रगतिवादीकविता। 
  • समाजार्थिक-राष्ट्रीय-राजनीतिकचेतना-सम्पन्नरचनाकार।
  • सन्1946 से प्रगतिवादीकाव्यान्दोलन से सक्रिय रूप सेसम्बद्ध। 'हंस' (बनारस / इलाहाबाद) मेंकविताओं काप्रकाशन। तदुपरान्तअन्य जनवादी-वाम पत्रिकाओंमें भी।प्रगतिशील हिन्दी कविता के द्वितीयउत्थान केचर्चित हस्ताक्षर। 

  • सन्1949 से काव्य-कृतियों काक्रमशः प्रकाशन। 
  • प्रगतिशील मानवतावादी कविके रूपमें प्रतिष्ठित।समाजार्थिक यथार्थ के अतिरिक्त अन्यप्रमुख काव्य-विषयप्रेम, प्रकृति, जीवन-दर्शन। दर्दकी गहनअनुभूतियों के समान्तर जीवन औरजगत केप्रति आस्थावानकवि। अदम्यजिजीविषा एवंआशा-विश्वासके अद्भुत-अकम्प स्वरोंके सर्जक। 
  • काव्य-शिल्प केप्रति विशेषरूप सेजागरूक।
  • छंदबद्ध और मुक्त-छंद दोनोंमें काव्य-सॄष्टि। छंद-मुक्त गद्यात्मककविता अत्यल्प।मुक्त-छंदकी रचनाएँभी मात्रिकछंदों सेअनुशासित।
  • काव्य-भाषा मेंतत्सम शब्दोंके अतिरिक्ततद्भव देशज शब्दोंएवं अरबी-फ़ारसी (उर्दू), अंग्रेज़ी आदिके प्रचलितशब्दों काप्रचुर प्रयोग।

  • सर्वत्र प्रांजल अभिव्यक्ति।लक्षणा-व्यंजनाभी दुरूहनहीं। सहजकाव्य केपुरस्कर्ता। सीमित प्रसंग-गर्भत्व।
  • विचारों-भावों कोप्रधानता। कविता की अन्तर्वस्तु केप्रति सजग। 
  • 26 जून 1926 को प्रातः6 बजे झाँसी(. प्र.) में, ननसारमें, जन्म।

प्रारम्भिक शिक्षा झाँसी, मुरार (ग्वालियर), सबलगढ़ (मुरैना) में। शासकीयविद्यालय, मुरार (ग्वालियर) से मैट्रिक(सन्1941), विक्टोरिया कॉलेज, ग्वालियर (सत्र41-42) और माधव महाविद्यालय, उज्जैन (सत्र: 42-43) से इंटरमीडिएट (सन्1943), विक्टोरिया कॉलेज, ग्वालियर सेबी. . (सन्1945), नागपुर विश्वविद्यालय से सन्1948 में एम. . (हिन्दी) और सन्1957 में 'समस्यामूलकउपन्यासकार प्रेमचंद' विषय पर पी-एच. डी.
जुलाई 1945 से अध्यापन-कार्यउज्जैन, देवास, धार, दतिया, इंदौर, ग्वालियर, महू, मंदसौर में।
  • 'कमलाराजा कन्या स्नातकोत्तरमहाविद्यालय, ग्वालियर (जीवाजी विश्वविद्यालय, ग्वालियर) से 1 जुलाई1984 को प्रोफ़ेसर-अध्यक्ष पदसे सेवानिवृत्त।
  • कार्यक्षेत्र : चम्बल-अंचल, मालवा, बुंदेलखंड। 
  • सम्प्रति शोध-निर्देशकहिन्दी भाषाएवं साहित्य। 
  • अधिकांश साहित्य 'महेंद्रभटनागर-समग्र' केछह-खंडोंमें एवंकाव्य-सृष्टि'महेंद्रभटनागर की कविता-गंगा' केतीन खंडोंमें प्रकाशित।


'महेंद्रभटनागर की कविता-गंगा'
खंड : 1

1          तारों केगीत
2          विहान
3          अन्तराल
4          अभियान
5          बदलता युग
6          टूटती शृंखलाएँ

खंड : 2

7          नयी चेतना
8          मधुरिमा
9          जिजीविषा
10        संतरण
11        संवर्त

खंड : 3

12        संकल्प
13        जूझते हुए
14        जीने केलिए
15        आहत युग
16        अनुभूत-क्षण
17        मृत्यु-बोध: जीवन-बोध
18        राग-संवेदन

प्रतिनिधि संकलन

19        सरोकार औरसृजन (जनसंवेदना-जनचेतना सेसम्बद्ध कविताएँ)
20        गीतक्रम [प्रतिनिधिगेय गीत]
21        सब-कुछपीछे छूटगया (नवगीत)
22        कालपृष्ठ  पर अंकित [1]  [सामाजिक यथार्थसे सम्बद्ध]
23        कालपृष्ठ  पर अंकित [2]  [सामाजिक यथार्थसे सम्बद्ध]
24        जीवन-राग[जीवन- दर्शनसे सम्बद्ध]
25        चाँद, मेरेप्यार! (प्रेम-कविताएँ)
26        इंद्रधनुष (प्रकृति-चित्रण)
27        मृत्यु औरजीवन
28        आधुनिक कवि: महेंद्रभटनागर
29        कविश्री : महेंद्रभटनागर[संयोजक : डॉ॰ शिवमंगल सिंहसुमन’]
30        प्रगतिवादी कविमहेंद्रभटनागर


अद्यतन काव्य-कृतियाँ

25        अनुभूतियाँ : एकहताश व्यक्तिकी
26        विराम 


मूल्यांकन  /  शोध

[1]                    महेंद्रभटनागर कीकाव्य-संवेदना: अन्तःअनुशासनीय आकलन
                        डा. वीरेंद्रसिंह (जयपुर)

[2]                    कवि महेंद्रभटनागरका रचना-कर्म
                        डा. किरणशंकरप्रसाद (दरभंगा)

[3]                    डा. महेंद्रभटनागरकी काव्य-साधना
                        ममता मिश्रा

[4]                    महेंद्रभटनागर कीकविता : परखऔर पहचान
                        सं. डा. पाण्डेय शशिभूषण'शीतांशु' (अमृतसर)

[5]                    कवि महेंद्रभटनागरकी रचना-धर्मिता
                        सं. डा. कौशलनाथ उपाध्याय(जोधपुर)


[6]                    डा. महेंद्रभटनागरकी काव्य-सृष्टि
                        सं. डा. रामसजन पाण्डेय(रोहतक)

[7]                    डा. महेंद्रभटनागरका कविव्यक्तित्व
                        सं. डा. रवि रंजन(हैदराबाद)

[8]                    सामाजिक चेतनाके शिल्पी: कवि महेंद्रभटनागर
                        सं. डा. हरिचरण शर्मा(जयपुर)

[9]                    कवि महेंद्रभटनागरका रचना-संसार
                        सं. डा. विनयमोहन शर्मा(स्व.)

[10]                  कवि महेंद्रभटनागर: सृजन औरमूल्यांकन
                        डा. दुर्गाप्रसादझाला (शाजापुर)

[11]                  महेंद्रभटनागर कीसर्जनशीलता (शोध / नागपुर वि.)
                        डा. विनीतामानेकर (तिरोड़ा-भंडारा / महाराष्ट्र)

[12]                  प्रगतिवादी कविमहेंद्रभटनागर : अनुभूति और अभिव्यक्ति /
                        (शोध / जीवाजीवि., ग्वालियर)
                        डा. माधुरीशुक्ला (स्व.)

[13]                  महेंद्रभटनागर केकाव्य कावैचारिक एवंसंवेदनात्मक धरातल
                        (शोध / सम्बलपुरवि., उड़ीसा)
                        डा. रजतकुमार षड़ंगी(कोरापुट-उडी़सा)

[14]                  डा. महेंद्रभटनागर: व्यक्तित्व और कृतित्व (शोध / कर्नाटकवि.)
                        डा. मंगलोरअब्दुलरज़ाक बाबुसाब (गदग-कर्नाटक)

[15]                  डा. महेंद्रभटनागरके काव्यका नव-स्वछंदतावादी मूल्यांकन
                        (शोध / दयालबागडीम्ड वि., आगरा)
                        डा. कविताशर्मा (आगरा)

[16]                  डा. महेंद्रभटनागरके काव्यमें सांस्कृतिकचेतना
(शोध / छत्रपति शाहूजीमहाराज विश्वविद्यालय, कानपुर)
डा. अलका रानीसिंह (कन्नौज)

[16]                  महेंद्रभटनागर काकाव्य : कथ्यऔर शिल्प
                        (शोध / ललितनारायणवि., दरभंगा)
                        डा. मीनागामी (दरभंगा)

[17]                  महेंद्रभटनागर केकाव्य मेंसंवेदना केविविध आयाम
                        (शोध / महर्षिदयानन्द विश्वविद्यालय, रोहतक)
                        डॉ॰ प्रमोदकुमार (रोहतक)

[18]                  डॉ॰ महेंद्रभटनागरके काव्यमें सम्सामयिकता
                        (शोध / सौराष्ट्रविश्वविद्यालय, राजकोट)
                        डॉ॰ विपुलरणछोड़भाई जोधाणी(जूनागढ़)

[19]                  डॉ॰ महेंद्रभटनागरकी गीति-रचना : संवेदनाऔर शिल्प
(शोध / छत्रपति शाहूजीमहाराज विश्वविद्यालय, कानपुर)
डॉ॰ रजनीकान्त सिंह          (कन्नोज)



नमस्कार,अगर इस जीवन परिचय में आपको कोई कमी या कोइ नई बात जोड़नी/घटानी हो तो अछुती इस पेज का लिंक विषय लिखते हुए  हमें इस पते पर ई-मेल करिएगा.ताकी हम इसे अपडेट कर सकें-सम्पादक 

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

पेज