नहीं रहे जन गायक रवि नागर - Apni Maati: News Portal

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

मंगलवार, अप्रैल 24, 2012

नहीं रहे जन गायक रवि नागर


-संजय सिन्हा
बिहार इप्टा कार्यकारी दल की ओर से जन संगीतकार रवि नागर के असामयिक निधन पर शोक सभा आयोजन बिहार इप्टा कार्यालय, पटना में किया गया. सभा की अध्यक्षता करे हुए बिहार इप्टा के कार्यकारी अध्यक्ष एवं वरीय संगीतकार सीताराम सिंह ने रवि नागर के निधन को इप्टा आन्दोलन के लिए अपूरणीय क्षति बताया. उन्होंने कहा की इप्टा के छः दशकों के जन संगीत सफ़र में साथी नागर एक सशक्त साथी थें. आज भी उनकी रचना 'आज़ादी ही आज़ादी' तथा 'नफस नफस' इप्टा की तमाम इकाइयों का जुबान पर रहने वाले क्रांतिकारी गीत है. हम रवि की कमी को महसूस करते हैं और ऐसे वक़्त में उनके परिवार के साथ पुरे हिंदुस्तान के कलाकार और जन संस्कृतिकर्मी हैं.


बिहार इप्टा के महासचिव और निर्देशक तनवीर अख्तर ने रवि को इप्टा के पुनर्गठन का प्रतिभाशाली साथी बताते हुए कहा की १९९४ में पटना में आयोजित इप्टा स्वर्ण जयंती समारोह में रवि की आवाज़ ने दर्शकों को रोमांचित कर दिया था. इतने साल बाद भी आज भी रवि नागर की वह आवाज़ और आज़ादी का संगीत इप्टा के हर नौजवान और जनता के आन्दोलन में विश्वास रखने वाले कलाकारों की सामूहिक अभिव्यक्ति है. यह सच है के रवि हमारे बीच नहीं रहें, लेकिन उनके गीत और वह ज़ोरदार आवाज़ इप्टा के झंडे को बुलंद रखेगे. बिहार इप्टा के सचिव डॉ. फीरोज़ अशरफ खान ने रवि नागर निधन को जन संगीत की दुनिया में अपूर्णीय क्षति बताते हुए जानकारी दी के रवि नागर लम्बे समय से बीमार थें और कैंसर रोग से पीड़ित थें. इप्टा के 13 वे राष्ट्रीय सम्मलेन ने रवि जी के शीघ्र स्वस्थ लाभ की कामना की थी किन्तु शायद यह कामना काम ना आई. हम इप्टा के साथी रवि जी को याद करते रहेंगे और बिहार इप्टा की ओर से से जल्द ही जन संगीत के अखिल भारतीय समारोह का आयोजन पटना में किया जाएगा. 

शोक सभा में वरिष्ठ गायिका रूपा सिंह, पटना इप्टा के संयुक्त सचिव दीपक कुमार एवं विशाल तिवारी, कोषाध्यक्ष पियूष सिंह, श्वेत प्रीति, निशा यादव, दिनेश शर्मा, विनय कुमार, सौरभ, सुमीत सहित कई साथी उपस्थित थें और सबने रवि नागर को याद करते हुए २ मिनट की मौन श्रद्धांजलि दी.

इप्टा के राष्ट्रीय महासचिव जितेन्द्र रघुवंशी ने अपने शोक संदेश में कहा है कि यह सोचना बहुत दु:खद है कि इस दौर के जन संगीत के समर्थ प्रतिनिधि भाई रवि नागर का 21 अप्रैल की शाम निधन हो गया। हम लोगों ने एक बहुआयामी प्रतिभा का कलाकार व अपना प्यारा साथी खो दिया है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

पेज