रबी अभियान का आगाज: 16 बीज रथ रवाना - Apni Maati: News Portal

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

बुधवार, सितंबर 28, 2011

रबी अभियान का आगाज: 16 बीज रथ रवाना


चित्तौड़गढ़, 26 सितम्बर। 

जिले में कृषि विभाग द्वारा राज्य सरकार के निर्देशानुसार रबी अभियान 2011 का शुभारंभ जिला कलक्टर रवि जैन, जिला प्रमुख सुशीला जीनगर एवं विधायक सुरेन्द्र सिंह जाड़ावत द्वारा 16 बीज रथों को हरी झण्डी दिखाने के साथ ही प्रारंभ हुआ। जिला कलक्टर रवि जैन ने इस अवसर पर कहा कि अभियान प्रचार-प्रसार का सशक्त माध्यम है तथा अभियान के माध्यम से एक ही स्थान पर सभी विभागों से संबंधित सारी जानकारियां मौके पर उपलब्ध हो जाती है। चित्तौड़गढ़ जिला कृषि के क्षेत्र में अग्रणी जिलों में शुमार है। कृषि विभागीय अधिकारी कृषकों को उच्च गुणवत्ता के बीज, उर्वरक एवं अन्य आदान की उपलब्धता सुनिश्चित करें।उन्होंने नरेगा कार्यक्रमों का उल्लेख करते हुए ग्राम पंचायतों के माध्यम से पंच फल बगीचों की स्थापना, बूंद-बूंद सिंचाई पद्धति एवं राज्य सरकार द्वारा अनुदान की चर्चा करते हुए किसानों से इसका अधिकाधिक लाभ उठाने को कहा। उन्होंने कृषि विभागीय अधिकारियों से अन्य विभागों के अधिकारियों से समन्वय बनाकर इस अभियान को सफल बनाने के निर्देश दिये।

क्षेत्रीय विधायक सुरेन्द्र सिंह जाड़ावत ने कहा कि इस वर्ष जिले में मानसून की अच्छी वर्षा हुई तथा भूमिगत जलस्तर में अच्छी बढ़ौतरी हुई है जिससे रबी की बम्पर फसल की आशा है। रबी अभियान के तहत अधिकारी शिविरों में उपस्थित रहकर सरकार की योजनाओं की जानकारी कृषकों को दे तथा उन्हें अधिकाधिक लाभान्वित करें। डी.ए.पी. सहित अन्य फास्फेटिक उर्वरकों की उपलब्धता भी सुनिश्चित की जाए तथा वितरण पर पूरी निगरानी रखी जाए। उन्होंने किसानों से फसल विविधिकरण को अपनाने तथा अपनी आमदनी बढ़ाने को भी कहा।जिला प्रमुख सुशीला जीनगर ने सम्बोधित करते हुए कहा कि कृषि, उद्यान तथा पशुपालन विभाग द्वारा कृषकों के हित में कई योजनाएं संचालित की जा रही है। इन शिविरों के माध्यम से योजनाओं का लाभ किसानों तक पहुंचे इसके लिए जनप्रतिनिधियों की भागीदारी पर भी जोर दिया। 

मुख्य कार्यकारी अधिकारी बी.एल.स्वर्णकार ने कहा कि कृषि योजनाओं की अधिक से अधिक प्रचार-प्रसार की आवश्यकता है। सघन खेती, अधिक उत्पादन के लिए उन्नत तकनीक तथा नवीनतम प्रौद्योगिकी जानकारी किसानों तक पहुंचाने के लिए यह अभियान चलाया जा रहा है। उन्होंने उन्नत बीज, फसल चक्र, मर्दा परीक्षण के अनुसार उर्वरक अपनाने पर जोर दिया।प्रारंभ में उप निदेशक कृषि विस्तार एल.एन.बैरवा ने अतिथियों का स्वागत किया तथा अभियान के बारे में जानकारी दी। इस अवसर पर उप निदेशक पशुपालन विभाग, कृषि अनुसंधान केन्द्र, कार्यक्रम समन्वयक, कृषि विज्ञान केन्द्र, उप रजिस्ट्रार सहकारी समितियां सहित विभिन्न विभागीय अधिकारी उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन परियोजना निदेशक (आत्मा) वी.एस. सौलंकी ने किया।

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

पेज