बारह लाइन लिखी,बन गए साहित्यकार - Apni Maati: News Portal

Breaking

Home Top Ad

Post Top Ad

बुधवार, अप्रैल 28, 2010

बारह लाइन लिखी,बन गए साहित्यकार

रचनाकार पर छपा है हाल लिखा व्यंग

सादर,

माणिक
आकाशवाणी ,स्पिक मैके और अध्यापन से जुड़ाव
http://maniknaamaa.blogspot.com
http://facebook.com/manikspicmacay
http://twitter.com/manikspicmacay
--------------------------------------------------
''काव्योत्सव'' में 25 मई तक
प्रकृति,बरसात,सावन,आषाड़,धूप,किसान,विरह,जनवाद,दलित विमर्श,अबला-सबला विमर्श,समाजवाद,विषम समाज विषय पर कवितायें आमंत्रित है.जिनका प्रकाशन http://apnimaati.blogspot.com पर 1 जून से होगा.

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

पेज