ज़रा-सा कवि,ज़रा-सा मनुष्य- कुँवर नारायण - Apni Maati: News Portal

Breaking

Home Top Ad

Post Top Ad

मंगलवार, सितंबर 04, 2012

ज़रा-सा कवि,ज़रा-सा मनुष्य- कुँवर नारायण


।। ज़रा-सा कवि,ज़रा-सा मनुष्य ।।

कुँवर नारायण: जीवन और कृतित्व की साखी


इन दिनों वरिष्ठ कवि कुँवर नारायण के जीवन और कृतित्व पर आधारित पुस्तक 'ज़रा-सा कवि,ज़रा-सा मनुष्य' का संपादन चल रहा है। यह पुस्तक संभवत: दो खंडों में होगी। युवा कवि यतीन्द्र मिश्र द्वारा संपादित ''कुँवर नारायण:'संसार' और 'उपस्थिति''' के बाद कुँवर नारायण जी के कृतित्व पर आलोचना की यह दूसरी पुस्तक होगी, जिसमें उनके समग्र कृतित्व,विशेषत: उत्तर जीवन के रचना संसार पर अनेक समकालीन लेखक शिरकत कर रहे हैं। 

जिन लेखकों के आलेख और टिप्पणियॉं पहले से ही उपलब्‍ध हैं, वे हैं: प्रभाकर श्रोत्रिय,विश्वंनाथप्रसाद तिवारी, परमानंद श्रीवास्तव, लीलाधर जगूड़ी, विश्‍वनाथ त्रिपाठी, गोविंद चंद्र पांडेय, रमेश दवे, नंद किशोर नवल, कैलाश वाजपेयी, मृणाल पांडेय,कन्हैयालाल नंदन, श्रीराम वर्मा, हरीश त्रिवेदी, कृष्ण दत्त पालीवाल, सीताकांत महापात्र(अंग्रेजी), मंगलेश डबराल, ओम थानवी, असद जैदी, पुरुषोत्तम अग्रवाल, दिनेश कुमार शुक्ल(हिंदी व अंग्रेजी में), गिरधर राठी, अवधेश प्रधान, भारत भारद्वाज, लीलाधर मंड
लोई, रविभूषण,विनोद भारद्वाज, रवीन्द्र वर्मा, कुसुम खेमानी, शांता आचार्य(अंग्रेजी में), राज किशोर, प्रयाग शुक्ल, सुरेश सलिल, रणजीत साहा, धर्मेन्द्र गुप्त, अनामिका(अंग्रेजी में), प्रताप भानु मेहता(अंग्रेजी में), अनिरुद्ध उमट, प्रकाश परिमल, पंकज चतुर्वेदी, यतीन्द्र मिश्र, पंकज पराशर, सुशील सिद्धार्थ, गीत चतुर्वेदी, अनंतकीर्ति तिवारी, देवशंकर नवीन, मोहन कृष्ण बोहरा,प्रेम शशांक, अरविंद त्रिपाठी, प्रफुल्ल कोलख्यान, रंजना श्रीवास्तव, ज्योतिष जोशी, सवाई सिंह शेखावत, विनोद दास, मीरा श्रीवास्तव, श्रीप्रकाश शुक्ल, दामोदर खडसे, गजानन चव्हाण, संगीता विजय जठार, लताश्री, शशिकांत, आशुतोष भारद्वाज , प्रतीक्षित आलेख: हेमंत शेष, गिरिराज किराड़ू, व्योमेश शुक्ल, आशुतोष दुबे, शिरीष कुमार मौर्य, अनुराग वत्स एवं अरुण देव। कुछ और आलेखों की प्रतीक्षा है। 


कोशिश है कि यह पुस्तक अक्‍तूबर 2012 तक प्रेस में चली जाए जिससे फरवरी, 2012 में आयोजित होने वाले विश्व पुस्तक मेले के अवसर पर यह उपलब्ध हो सके।


इस संदेश के माध्यम से मैं अपने सभी समकालीन लेखकों,कवियों से आग्रह करूँगा कि कुंवर जी को ज्ञानपीठ पुरस्कार मिलने के बाद उन पर किसी पत्र/पत्रिका/वेब पत्रिका/ब्लाग/फेसबुक इत्यादि माध्यमों में लिखा गया कोई लेख आपकी स्मृति में हो तो उससे मुझे अवगत कराने एवं हो सके तो लेख की स्कैल प्रति, पीडीएफ फाइल, हार्ड कापी अथवा अटैचमेंट भिजवाने का कष्ट करें। मेरा पता है: डॉ.ओम निश्चल,वरिष्ठ राजभाषा प्रबंधक, इलाहाबाद बैंक, मंडलीय कार्यालय, इकराम खान की बिल्डिंग, नदेसर, वाराणसी-221002,(फोन:09696718182), मेल: omnishchal@gmail.com ; लेख की हार्ड कापी मेरे दिल्ली के स्थायी पते: 'जी-1/506 ए, उत्तम नगर, नई दिल्ली-110059' के पते पर भी भेजी जा सकती है।




बैंकिंग क्षेत्र में वरिष्ठ प्रबंधक हैं.
अवध विश्वविद्यालय से साठोत्तरी हिन्दी कविता पर शोध.
अपनी माटी पर आपकी और रचनाएं यहाँ 
मार्फत : डॉ.गायत्री शुक्‍ल, जी-1/506 ए, उत्‍तम नगर, 

नई दिल्‍ली-110059, फोन नं. 011-25374320,मो.09696718182 ,ईमेल:omnishchal@gmail.com  पूरा परिचय यहाँ 




कोई टिप्पणी नहीं:

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

पेज