ख़्वाब-ए-सहर :क्रांतिकारी गीतों की प्रस्तुति - Apni Maati: News Portal

Breaking

Home Top Ad

Post Top Ad

गुरुवार, जुलाई 05, 2012

ख़्वाब-ए-सहर :क्रांतिकारी गीतों की प्रस्तुति


आमंत्रण

यह खू कि महक है के लब्ब-ए यार कि खुशबु 
                                                                         किस राह कि जानिब से सदा आती है देखो  
                                                                         गुलशन में बहार आई के जिंदा हुआ आबाद
                                                                         किस सिम्त से नगमो कि सदा आती है देखो,,,
                                                                                                                          "फैज़" 
                                                                                                                          

एक शाम  सांस्कृतिक आंदोलन के नाम
ख़्वाब-ए-सहर

प्रसिद्ध शास्त्रीय  व लोक गायक कलाकार
डा0 शुभेंदु घोष 
(प्रतिध्वनि)
द्वारा

सामाजिक व राजनैतिक आंदोलनों में सांस्कृतिक आंदोलन की भूमिका के संदर्भ में
क्रांतिकारी गीतों की प्रस्तुति

दिनांकः 22 जुलाई 2012 सांय 5.00 से 7.00 बजे तक
स्थानः- आई.एस.आई, इन्स्टीट्यूषनल एरिया
लोधी रोड- नई दिल्ली

आयोजकः-  राष्ट्रीय वन-जन श्रमजीवी मंच ( NFFPFW)

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

पेज